गोमती नदी का सीना क्यों छलनी कर रहे हैं खनन माफिया – ?

0
254

अमेठी : थाना बाजार शुकुल की पुलिस अब खनन माफियाओं का साथ देकर खुद खनन माफिया बन गई है। पुलिस के संरक्षण में गोमती नदी से खुलेआम अवैध बालू का खनन हो रहा है। पुलिस खनन माफियाओं के साथ मिलकर राजस्व को भारी नुकसान पहुंचा रही है।
यूँ तो अवैध खनन से पूरा जिला अछूता नही रह गया है, मगर बालू खनन का सबसे बड़ा काम थाना बाजार शुकुल के नांदी गाँव के समीप गोमती नदी पर चल रहा है। दिन हो या रात यहाँ हर समय बालू से भरी ट्रैक्टर ट्राली बेधड़क निकल जाती हैं। नदी के किनारे खनन माफियाओं के गुर्गे बालू निकालते हैं। नदी के आसपास खनन करने वालो ने कई फुट के गड्ढे तक खोद दिए हैं जिनमे कभी भी कोई अप्रिय घटना हो सकती है। सूत्र बताते हैं कि इसके एवज में स्थानीय पुलिस और वन विभाग खनन माफियो से एक मोटी रकम लेती है। और खुलेआम बालू से भरी ट्राली इधर-उधर बिक्री के लिए भेजी जाती हैं। लेकिन पुलिस इन्हें रोकना भी जरुरी नही समझती है। इसके बावजूद भी स्थानीय थाना के सिपाही और दरोगा को सेट कर रखा है। खनन की काली कमाई में सिपाही और दरोगा का हिस्सा बंधा हुआ है। ऐसे नही है कि खनन की काली कमाई सिर्फ सिपाही और दरोगा तक ही सिमित है बल्कि इसका कुछ हिस्सा थाना प्रभारी तक भी जाता हैं। खुलेआम पुलिस के संरक्षण में चल रहे इस अवैध खनन के धंधे पर प्रशासन का ध्यान नही जा रहा है जिसके चलते खनन माफिया सरकार व राजस्व का भारी नुकसान करके अपनी जेबे भर रहे हैं। शासन की ओर से जिले में बालू खनन पर पुर्णतः रोक लगी हुई है इसके बावजूद भी पुलिस अवैध खनन करवाने की परमिशन दे रही है अमेठी जनपद में गोमती नदी के किनारे बसे गाँवों से ही बालू निकालकर खनन माफिया बालू को बाजार में बेचकर मोटी कमाई कर रहे हैं । वहीं विभाग के अधिकारियों को पूरी जानकारी होते हुए भी मौन है नाम न बताने की शर्त पर क्षेत्रीय विकास खंड बाज़ार शुकुल के अंतर्गत विभिन्न गांवों के लोगों ने बताया कि नांदी, खेममऊ, सत्थिन, मड़वा, थौरी आदि जगहों पर बालू खनन वन विभाग व स्थानीय प्रशासन की संलिप्तता की वजह से ही खनन माफिया निकालने में पूरी तरह से मस्त है जिसके कारण प्रतिबन्ध नही लग पा रहा है आखिर क्या है करण -?

। अब गोमती नदी भी खनन माफियाओं के टारगेट पर आ गई है। बीते कई दिनों से लगातार गोमती नदी में बालू का अवैध खनन किया जा रहा है। प्रशासनिक ढिलाई के चलते खनन माफियाओं पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। इससे गोमती नदी का स्वरूप बिगड़ रहा है। बरसात के दिनों में बाढ़ आने पर गोमती नदी विकराल रूप धारण करेगी और आसपास बसे लोगों पर बाढ़ का कहर टूटेगा। छेत्र के संभ्रांत व्यक्तियों, प्रबुद्ध जनों ने डीएम से खनन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
क्षेत्रवासियों ने चेतावनी दी है कि यदि शीघ्र ही गोमती नदी में अवैध बालू खनन नहीं रुका तो आगे भी सम्बंधित अधिकारियों से शिकायत किया जाएगा । हला की हो रहे अवैध बालू खनन पर तत्काल रोक लगाएं और बालू खनन में लिप्त लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करें।ऐसा क्षेत्रीय प्रबुद्ध जनों का कहना है

क्या कहते हैं जिला अधिकारी अमेठी

वहीं जिलाधिकारी अमेठी से बात हुई तो उन्होंने बताया इन विषयों पर तत्काल प्रभाव से संज्ञान में लेकर के कार्यवाही की जाएगी अब देखना यह है कि कार्यवाही होती है या नहीं यह बहुत बड़ा सवाल है अमेठी के स्थानीय लोगों का -?

रिपोर्ट सुरेन्द्र शुक्ला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.