अमेठी की बिटिया को इसरो पहुंचाने का केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने किया वादा

0
94

अमेठी: सांसद स्मृति ईरानी कल से अपने संसदीय क्षेत्र के दो दिवसीय दौरे पर अमेठी में मौजूद है । इस दौरान उन्होंने जगह-जगह पर चौपाल लगाकर एक तरफ जहां लोगों की समस्याएं सुनी और उसका निस्तारण किया। वहीं पर दूसरी तरफ गर्भवती महिलाओं की गोद भराई तथा छोटे बच्चों का अन्नप्राशन कार्यक्रम के साथ साथ तमाम योजनाओं से लाभान्वित जनता को प्रमाण पत्र व प्रशस्ति पत्र प्रदान किया। आज अपने दौरे के दूसरे दिन स्मृति ईरानी ने जनपद मुख्यालय गौरीगंज स्थित दुर्गन भवानी धाम के पास बने जयपुरिया स्कूल पहुंची। जहां पर उन्होंने फीता काटकर स्कूल का उद्घाटन किया इसके बाद मां सरस्वती की प्रतिमा के सामने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। इस दौरान जयपुरिया स्कूल के बच्चों ने केंद्रीय मंत्री के स्वागत में रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। वहीं पर स्मृति ईरानी ने लोगों को घरौनी वितरित किया और स्वनिधि योजना के लाभार्थियों से चर्चा भी किया। इसके उपरांत जयपुरिया स्कूल कैंपस में ही राजकीय आईटीआई और पॉलिटेक्निक के छात्र छात्राओं को टेबलेट व स्मार्टफोन का वितरण किया तथा छोटे-छोटे बच्चों के साथ सेल्फी भी खींचते हुए बच्चों को ऑटोग्राफ दिया। छात्र-छात्राओं को लैपटॉप वितरण करते हुए स्मृति ईरानी ने पूछा तो किसी ने बताया कि डॉ बनेंगे किसी ने इंजीनियर किसी ने कहा हम सरकारी नौकरी करेंगे वहीं पर संजय गांधी पॉलिटेक्निक जगदीशपुर से आई हुई पॉलिटेक्निक की छात्रा नीतू मौर्य ने कहा कि अभी हमारे पास 3 साल का समय है और मैं इस टेबलेट के माध्यम से तैयारी करूंगी और मेरा उद्देश्य भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) में पहुंचकर देश की सेवा करने का है ।
नीतू की इन बातों से केंद्रीय मंत्री बेहद प्रसन्न हुई और उन्होंने अमेठी की बिटिया को प्रोत्साहित करते हुए कहा की तुम अपने माता-पिता से अनुमति ले लो मैं तुम्हें 10 जून को ही स्वरूप प्रांगण में ले जाऊंगी और वहां के लोगों से मुलाकात कराऊंगी। यही नहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने वहां पर मौजूद सभी नवयुवक और छात्राओं को यह संदेश दिया कि जो भी जिस फील्ड विशेष में जाना चाहता है देश की सेवा में काम करना चाहता है उसके लिए मैं निश्चित रूप से जो भी सुविधा हो सकती है वह मुहैया करवाऊँगी। इस मौके पर पॉलिटेक्निक स्कूल के प्रिंसिपल ने बताया कि यह हम सब के लिए निश्चित रूप से बेहद खुशी का दिन है की हमारे स्कूल की बेटी इसरो जाएगी निश्चित रूप से हमारे स्कूल के अन्य बच्चों को इससे प्रेरणा मिलेगी वहीं पर जब नीतू से बात की गई तब उन्होंने बताया बचपन से मेरा सपना था कि मैं साइंटिस्ट बनूं । मुझे लगता है मैं यह कर सकती हूं और इसलिए मैं इसरो जाना चाहती हूं । इसके लिए केंद्रीय मंत्री वह अमेठी की दीदी स्मृति ईरानी जी से मैंने बात की और उन्होंने आगामी 10 जून को मुझे इसरो ले जाने की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.