श्रृष्टि में अमोलक है मनुष्य शरीर पाना….संत उमाकान्त जी महाराज

0
311

नीतिका द्विवेदी
मोहनलालगंज।चार खान चौरासी लाख योनियों में भटकने के बाद जीव को मानव तन मिलता है इसी पंच भौतिक मानव शरीर से प्रभु की प्राप्ति होती है मनुष्य शरीर देवताओं को भी दुर्लभ है इसको पाने के लिए देवता भी तरसते रहते हैं यह उदगार बाबा जयगुरुदेव जी महाराज के आध्यत्मिक उत्तराधिकारी संत उमाकान्त जी महाराज ने अवध शिल्प ग्राम लखनऊ में शिवरात्रि के पावन पर्व पर आयोजित दो दिवसीय सत्संग में व्यक्त किये।संत उमाकान्त जी महाराज ने कहा कि यह जीवात्मा इस मत्यु लोक की रहने वाली नही है सत्य देश की रहने वाली है जिसे फिर वापस अपने देश जाना है लेकिन प्राणी काल माया के देश मे आकर फंस गया और अपना देश, अपने मालिक को भूल गया है, माया की छाया को अपना ही सब कुछ मान लिया है। सच तो ये है कि सभी को इस नश्वर शरीर को छोड़कर जाना पड़ता है यह सराय खाना है।   महाराज जी शाकाहार के बारे में बताते हुए कहा कि मनुष्य का भोजन मांस नही है मांस के खाने से मनुष्य का खून बेमेल हो जाता है जिससे लोगों में नई नई बीमारी हो रही है जिनका इलाज डॉक्टरों के पास नही है ।सरकार को शराब जैसे बुद्धि नाशक नशे को बंद कर देना चाहिए शराब के नशे में लोगों की बुद्धि पागल हो जाती है लोग अपनी ही माँ बहेन की पहचान नही कर पाते हैं। देश में ज्यादा तर अपराध शराब के पीने के बाद ही होते हैं ।महाराज जी ने कहा कि आगे का समय बहुत ही दुखदायी है 2021 पिछले 2020 से ज्यादा खराब है इस खराब समय से बचने के लिए सभी को अपने- अपने घरों में रोज सोने से पहले औऱ सुबह उठने के समय जयगुरूदेव नाम ध्वनि बोलने से फायदा मिलेगा।उ०प्र०सरकार के विधि एवं कानूनमंत्री बृजेश पाठक ने सत्संग में पहुंचकर संत उमाकान्त जी महाराज का आशीर्वाद लिया।मीडिया प्रभारी नागेश्वर द्विवेदी ने बताया कि उत्तर प्रदेश ही नही देश के विभिन्न प्रान्तों के अनुयायी उपस्थित हुए है।संत्सग का आयोजन बागेश्वर दुवेदी, संतोष सिंह, मंगूलाल, कन्हैया लाल गुप्ता लक्ष्मण सिंह, सुनील दत्त सिंह, श्रवण कुमार सोनकर,पी डी पाण्डेय, आर पी त्रिपाठी, सुभाष गुप्ता, लल्लू वर्मा, कृष्णा नन्द द्विवेदी,आलोक माथुर,दीपक श्रीवास्तव ,नितिन सोनकर ,राजेश मौर्या, शशि कांत,ललित शुक्ला,साकेत त्रिपाठी, किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.