दो बार कोरोना से जीती जंग, वापस आकर निभाना शुरू किया अपना फर्ज——

0
278

नीतिका द्विवेदी


रोजाना सौ से अधिक मरीजो देखते हुए थे आये थे कोरोना की चपेट में


नियम संयम की बदौलत घर मे रहकर अपने को खुद ठीक किया


निगोहा।बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जहां एक ओर कुछ लोग कोरोना के भय से अपनो का साथ छोड़कर अपनो से दूरी बना रहे है।इसी भय के चलते निजी व सरकारी अस्पतालों के कुछ डॉक्टर भी मरीजो को देखने से मनाकर मरीजो से दूरी बनाकर उन्हें उनके हाल पर छोड़ दे रहे है।वही मरीजो का इलाज करते करते मोहनलालगंज सीएचसी के डाक्टर मनीष अवस्थी दो बार कोरोना पॉजीटिव हो गए।पाजीटिव होने के बाद घर मे रहकर ही कोरोना से जंग जीती और मरीजो की सेवा करने के लिये दोनों बार 15 दिनो में ही वापस आकर अपनी जिम्मेदारी को संभालकर रोजाना मरीजो को देखकर उनका इलाज करने लगे वही इन दिनों सीएचसी के कुछ स्टाफ और डॉक्टर के पाजीटिव होने पर अब डाक्टर मनीष इमरजेंसी की भी जिम्मेदारी संभाल रहे है।वही इसी के साथ दिन रात इलाके के पीड़ितों को फोन पर भी उनकी समस्याओं को सुनकर उन्हें सलाह देकर उनका इलाज कर रहे है।

सीएचसी मोहनलालगंज पर तैनात डाक्टर मनीष अवस्थी रोजाना अपनी ओपीडी में मरीजो को देखने के साथ उनकी मदद के लिये पैथोलॉजी जाकर जांच कराना यहाँ तक दवा काउंटर से दवा दिलाकर उन्हें समझाने तक कि सेवाभाव के लिये इलाके भर में जाने जाते है।इसी बीच पिछले दिनों व इधर 23 अप्रैल को मरीजो को देखते देखते उन्हें पता लगा कि वो कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए और उनकी रिपोर्ट पाजीटिव आ गयी है।इसके बाद वो अस्पताल के लिये घर को निकल गए।और घर मे रहकर अपनी खुद की दवाओं के साथ व्यायाम खान पान सहित अपनी दिनचर्या में बदलाव लाकर मात्र 15 दिन में ही कोरोना से जंग जीत ली और 15 दिन के भीतर ही रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही अपनी जिम्मेदारी पर वापस आकर फिर से मरीजो को देखकर उनका इलाज करना शुरू कर दिया।

बढ़ते संक्रमण में भी बखूबी निभा रहे जिम्मेदारी———
इस समय बढ़ते संक्रमण के दौरान भी डॉक्टर मनीष अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभा रहे है।सीएचसी पर आने वाले मरीजो को देखकर उनका इलाज करने के साथ गंभीर को अपना फोन नम्बर देकर उनकी समस्याओं को सुनकर ठीक कर रहे है।वही इस समय जब अस्पताल के स्टाफ पर संकट आया तो इमरजेंसी में भी रहकर अपनी डियूटी का फर्ज निभा रहे है।

हर आने वाला मरीज डाक्टर मनीष को ही दिखाना चाहता है—-


डाक्टर मनीष के व्यवहार और उनके इलाज करने के तरीके की वजह से सीएचसी पर आने वाला हर मरीज उन्हें ही दिखाना चाहता है।ग्रामीण बताते है कि डॉक्टर साहब देखने के बाद दवा दिलाकर खुद बड़े अच्छे से समझाकर घर भेजते है। और जरूरत पड़ने पर अपना नम्बर भी देते और कहते है चाहे जब फोन मिलाकर बात कर लेना यही वजह है कि बहुत सी समस्याओं का निराकरण फोन पर ही मिल जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.