ऐसा क्या! जब रसोइयो का बहिष्कार कर प्रधान ने खुद बनाया जरूरतमंदो का भोजन

0
657

रिपोर्ट अमित त्रिपाठी
महराजगंज रायबरेली। पुरासी गांव की महिला प्रधान कृष्णलली द्वारा बीएसए द्वारा जारी अजब गजब आदेश का जवाब अपने गांव में रसोइयों का बहिष्कार करते हुए दिया गया। जिसमे महिला प्रधान ने रसोइयों क़े बजाए ग्रामीणों की मदद से अपने हाथो से आइसोलेशन कक्ष में ठहरे क्वारिनटीनो एवं गांव क़े जरूरतमंद लोगो का भोजन बना कर वितरण कराया। आक्रोशित पुरासी महिला प्रधान ने कहा की ऐसे लोगो को रोकने की व्यवस्था करने, भोजन की खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने जैसी जिम्मेदारी प्रधान को स्वय क़े खर्च से करनी है तो फिर बीएसए द्वारा मात्र रसोइयों की व्यवस्था का एहसास लेने की भी क्या आवश्यकता। महिला प्रधान ने कहा की जब वह इतना कर सकती है तो क्या महिला होकर अपने गांव क़े लोगो क़े लिए भोजन भी नही बना सकती।
मालूम हो की 30 मार्च को बीएसए द्वारा बीईओ एवं प्रधानाध्यापक को पत्र जारी किया गया की वह मीड डे मिल को छोड़ प्रधान/सचिवो द्वारा लाई गयी सामग्री से ही रसोइयों को भोजन पकाने में लगाए। जिसको लेकर क्षेत्रीय प्रधानों में आक्रोश देखा जा रहा। इस दौरान रसोइयों का बहिष्कार कर पुरासी प्रधान द्वारा 30 लोगो का भोजन अपने हाथो एवं ग्रामीणों क़े सहयोग से बनवाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.