उत्तराखंड हादसे में रायबरेली के दो सगे भाई भी लापता….

0
769

मनीष अवस्थी

रायबरेली। उत्तराखंड के चमोली में आई तबाही के बाद रायबरेली के दो नौजवानों से भी संपर्क टूट चुका है। युवकों के परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है तो वहीं प्रशासनिक अमला उत्तराखंड प्रशासन से संपर्क साधकर युवकों की खोजबीन में जुट चुका है। हरचंदपुर थाना क्षेत्र के गांव बसंतखेड़ा के दोनों युवक रहने वाले हैं।

हरचंदपुर थाना क्षेत्र के बसंतखेड़ा के रहने वाले दो सगे भाई नरेंद्र सिंह व अनिल सिंह लगभग 6 महीने पहले उत्तराखंड के चमोली काम करने गए थे। दोनों ऋषि गंगा पॉवर कारपोरेशन लिमिटेड कंपनी में बतौर बोर्ड ऑपरेटर काम कर रहे थे। ऋषि गंगा कम्पनी चमोली जिले के थाना जोशीमठ के रेनी गांव तपोवन में पॉवर ग्रिड का काम कर रही है। जिसमे दोनों सगे भाई बोर्ड ऑपरेटर के पद पर काम कर रहे थे। चमोली में आई तबाही के बाद दोनों भाइयों का परिवार से संपर्क टूट चुका है। जिसके बाद परिवारी जन अनहोनी की आशंकाओं के चलते काफी विचलित है। नरेंद्र और अनिल की पत्नियां, बच्चों,माँ सहित अन्य परिवारी जनों का रो रो कर बुरा हाल है।

नरेंद्र के एक बेटा व तीन बेटियां जबकि अनिल की चार बेटियां ही हैं । जिनकी जिम्मेदारी उन दोनो के कंधे पर थी। जैसे ही नरेंद्र व अनिल से संपर्क टूटा तो नरेंद्र की पत्नी चन्द्ररेखा सिंह व अनिल की पत्नी सुधा सिंह पर तो मानो जैसे पहाड़ ही टूट गया हो। दोनो रोते रोते बेहोश हो जा रही हैं। तो वहीं बच्चे भी बिलख बिलख कर पापा को बुला रहे हैं। यह मार्मिक दृश्य देखकर वहाँ उपस्थित सभी का हृदय द्रवित हो जा रहा है और सभी दोनो के सुरक्षित होने की दुआएं मांग रहे हैं।

चमोली त्रासदी के बाद नरेंद्र व अनिल के बड़े भाई बृजेन्द्र बहादुर सिंह से संपर्क टूट गया। काफी कोशिश के बाद भी जब संपर्क नही हो पाया तो उन्होंने हरचंदपुर थाने में जाकर सूचित किया। जिसके बाद प्रशासनिक अमला उत्तराखंड प्रशासन से संपर्क साधकर खोजबीन में जुट गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.