रायबरेली:7 साल बाद इंसाफ,दरिंदे को हुई फांसी

0
584

मनीष अवस्थी

रायबरेली। रायबरेली जनपद में एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया गया जिसमें 7 साल बाद बलात्कार व हत्या के मामले में अभियुक्त को दोषी करार दिया गया । इतना ही नहीं दोषी करार देने के साथ-साथ उसे फांसी की सजा भी सुनाई गई। जिससे पीड़ित पक्ष को न्याय तो मिला ही अपराधियों में भी एक कठोर संदेश गया। मामला दीवानी न्यायालय के विशेष न्यायालय का है जिसमें मौत की सजा सुनाई गई।
सलोन थाना क्षेत्र के मायाराम का पुरवा गांव के रहने वाले हनुमंत सिंह की नाबालिग पुत्री रेखा( काल्पनिक नाम )के साथ जितेन्द्र सिंह नामक एक व्यक्ति ने अपनी हवस का शिकार बनाया था। मामला 2014 का है जब जितेंद्र डेढ़ साल की मासूम बच्ची को अपने साथ ट्यूबवेल पर ले गया और उसके साथ घिनौना कृत्य किया। जिसके बाद उस मासूम की दर्दनाक हत्या कर दी। इतना ही नहीं मौत के बाद जितेंद्र उस मासूम बच्ची की लाश को छुपा भी दिया था। काफी मशक्कत व कड़ी पूछताछ के बाद जितेंद्र ने बलात्कार के बाद हत्या की बात को स्वीकार लिया जिसके बाद पुलिस ने उस मासूम बच्ची की लाश को भी बरामद कर लिया और मामला संबंधित धाराओं में थाने में दर्ज हो गया।

7 साल तक कोर्ट में जिरह व गवाहियां चलती रही। 7 साल बाद दोषी को फांसी की सजा कोर्ट नंबर 5 के विशेष न्यायाधीश पाक्सो एक्ट विजयपाल ने सुनाई।
नाबालिग के साथ बलात्कार व हत्या का केस विशेष लोक अभियोजक वेदपाल सिंह लड़ रहे थे। काफी मशक्कत व कठिन परिश्रम के बाद मासूम के परिजनों को न्याय मिला। न्यायालय 5 के विशेष न्यायाधीश ने दोषी को फांसी की सजा सुनाकर एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। जो अब तक के इतिहास में कभी नही हुआ।
रायबरेली जनपद के सत्र न्यायालय का यह अभी तक का पहला ऐतिहासिक फैसला है। जिसमें हत्या व बलात्कार के मामले में फांसी की सजा सुनाई गई है । जैसे ही यह फैसला पाक्सो एक्ट के विशेष न्यायाधीश विजयपाल ने सुनाया, पूरा न्यायालय परिसर स्तब्ध रह गया एक बार अपने कानों पर किसी को भरोसा नही हो रहा था। विशेष लोक अभियोजक वेदपाल सिंह के तो खुशी का ठिकाना उस समय नहीं था जब उनकी मेहनत से दोषी को फांसी की सजा मिली। फिलहाल इस सजा के बाद अपराधियों में एक संदेश जरूर जाएगा कि रायबरेली जनपद के न्यायालय से भी फांसी की सजा मिल सकती है।
सलोन थाना क्षेत्र में 7 साल पहले एक डेढ़ वर्षीय बालिका के साथ बलात्कार व हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ था । जिसमें हमारे माननीय न्यायाधीश विजयपाल जी ने एक ऐतिहासिक फैसला देते हुए दोषी को फांसी की सजा सुनाई है। इस ऐतिहासिक फैसले से अपराधियों में भय जरूर व्याप्त होगा । यह बहुत बड़ा ऐतिहासिक फैसला है। इस फैसले से हमारी पूरी टीम काफी खुश और इस फैसले का स्वागत करती है।

नवरात्र में चलाई जा रही महिलाओं की सुरक्षा के लिये मिशन शक्ति अभियान के तहत बहुत से पुराने मामलों में भी सजा दिलाये जाना शामिल है। इसी क्रम में मुकदमा संख्या 241/2014 में
पुलिस द्वारा चार्जशीट दायर की गई थी। यहाँ के विशेष न्याधीश पास्को एक्ट ने आरोपी को फांसी की सजा सुनाई है । इस मुकदमे में डेढ़ वर्षीय बच्ची के साथ रेप हुआ था जिससे उसकी मृत्यु हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.