रायबरेली: त्यौहार के मद्देनजर खाद्य विभाग की सख्ती आई सामने मारा छापा

0
212

मनीष अवस्थी


रायबरेली। त्यौहार नजदीक आते ही मिठाइयों व खाद्य सामग्रियों में मिलावट का काम शुरू हो जाता है। जिसका परिणाम यह होता है की खाद्य सामग्री उपयोग करने वाले लोग या तो बीमार होते हैं या तो उन्हें आंतरिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिसके ही रोकथाम के लिए खाद्य विभाग छापेमारी शुरू कर चुका है। बीते 2 महीनों में लगभग 35 लोगों पर मुकदमा दर्ज किए जा चुके हैं जबकि बीते एक सप्ताह में 25 अलग-अलग खाद्य पदार्थों के नमूने लेकर लैब भेजा चुका हैं और उनके उनकी रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है ।
शहर की मिठाई की दुकानों व खाद्य पदार्थों की दुकानों पर छापेमारी तो की ही जा रही है साथ ही जिले के सभी कस्बों की दुकानों में भी यह अभियान चलाया जा रहा है। लगातार खाद्य पदार्थों व मिठाइयों के नमूने लेकर सील किए जा रहे हैं और उन्हें टेस्टिंग के लिए लैब भेजा जा रहा है। शहर के अग्रवाल स्वीट हाउस सहित अन्य मिठाई की दुकानों के भी सैंपल लिए गए। इसके पहले भी इन दुकानों के सैंपल लिए जा चुके हैं जिसमें नमूने मानक के अनुसार नहीं पाए गए। लिहाजा इन सभी पर मुकदमा लिखने की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इसी तरह अन्य दुकानों पर भी जो नमूने लिए गए हैं परिणाम आने के बाद कार्यवाही सुनिश्चित की जाएंगी।
खाद्य विभाग की अभियान के तहत लगातार छापेमारी से खाद्य पदार्थों को बेचने वाले दुकानदारों में हड़कंप मचा हुआ है क्योंकि त्यौहार नजदीक आते ही मानक विहीन मिठाइयों की बिक्री तेज हो जाती है । जिसको खाकर लोग या तो बीमार पड़ जाते हैं या फिर उनके आंतरिक अंगों को धीरे-धीरे नुकसान पहुंचता है जो आगे चलकर उन्हें बीमार बना देता है। फिलहाल खाद्य विभाग की छापेमारी से जहां आम लोग इसे राहत की नजर से देख रहे हैं वहीं दुकानदारों में भय व्याप्त हो रहा है।
त्यौहार नजदीक आते ही उच्चाधिकारियों के निर्देशानुसार खाद्य पदार्थों व मिठाइयों की दुकानों पर लगातार छापेमारी की जा रही है। पिछले 2 महीनों में टेस्ट के लिए भेजे गए नमूनों में से 35 नमूने मानक के अनुसार नहीं पाए गए । उन सभी दुकानदारों पर मुकदमा लिखाने की तैयारी चल रही है और काफी लोगों पर मुकदमा संबंधित धाराओं में लिखाया भी जा चुका है। बीते एक सप्ताह में लगभग 25 नमूने लेकर सैंपल के लिए भेज दिए गए हैं उनके परिणाम आने के बाद जो फेल होते हैं उस पर कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। अग्रवाल स्वीट का नमूना भी मानक के अनुसार नहीं पाया गया था जिस पर मुकदमा लिखने का निर्देश दे दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.