रायबरेली: निजी नर्सिंग होम का बड़ा कारनामा ?

0
510

संवाददाता- विपिन पांडेय


शिवगढ़ रायबरेली। जहां एक ओर देश के प्रधानमंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री अनवरत स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने का प्रयास कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर कुछ जिम्मेदारों की मनमानी एवं लापरवाही के कारण आए दिन ऐसी इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटनाएं घटित हो जाती हैं। जिससे सरकार के इन प्रयासों पर पूर्ण रूप से सवाल उठना लाजमी हो जाता है। जानकारी के अनुसार आपको बताते चलें कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवगढ़ से महज 200 मीटर की दूरी पर स्थित आरोग्य हेल्थ केयर सेंटर के नाम से संचालित एक निजी नर्सिंग होम का कारनामा सामने आ रहा है। जहां पर एक प्रसूता के साथ ऑपरेशन करने के नाम पर उसके हाथ पैर बांधकर चिकित्सकों के द्वारा इंसानियत को पूर्ण रूप से शर्मसार किया गया। प्रसूता सुमन के पति राजकुमार निवासी नटई कोटवा की मानी जाए तो उनका कहना है कि मैं अपनी पत्नी सुमन को लेकर प्रसव के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवगढ़ पहुंचा। परंतु आशा बहू द्वारा कमीशन के चक्कर मे मेरी पत्नी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवगढ़ से 200 मीटर की दूरी पर स्थित आरोग्य हेल्थ केयर सेंटर नाम से संचालित एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया। निजी नर्सिंग होम के स्टाफ द्वारा मुझे यह बताया गया कि आपकी पत्नी का प्रसव नॉर्मल हो जाएगा परंतु मेरी पत्नी को एडमिट करने के बाद उसके हाथ पैर बांधकर उसका ऑपरेशन किया गया। लेकिन जब ऑपरेशन सफल नहीं हुआ तो प्रसूता के 10 टांके लगा दिए गए। जिससे मरीज की हालत काफी नाजुक हो गई मरीज की नाजुक हालत देखकर मेरे परिवारी जनों के द्वारा मेरे पत्नी को कृष्णा नर्सिंग होम ले जाया गया। जहां पर कृष्णा नर्सिंग होम के डॉक्टरों द्वारा उसका पुनः ऑपरेशन का प्रसूता का प्रसव कराया गया। लेकिन समय अधिक बीत जाने के कारण नवजात की मृत्यु हो गई और प्रसूता की जान सुरक्षित बच गई। जिसको लेकर प्रसूता के पति राजकुमार ने निजी नर्सिंग होम पर उसकी पत्नी के साथ इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटित हुई घटना को गंभीर आरोप लगाए हैं। अब ऐसे में यह यक्ष प्रश्न उठना लाजमी हो जाता है कि आखिरकार निजी अस्पतालों के मनमाने रवैया के कारण कब तक इंसानियत शर्मसार होती रहेगी और आए दिन ऐसे लोगों की जानें अनवरत जाती रहेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.