निजी क्लिनिक की काली करतूत, परिजनों का डायग्नोस्टिक सेंटर पर जमकर हंगामा

0
522

मनीष अवस्थी

रायबरेली में निजी डायग्नोस्टिक सेंटर पर जांच कराने आई किशोरी को 1 महीने की प्रेग्नेंट होने की रिपोर्ट दे दी गई वही जब उसने दूसरे सेंटर पर जांच कराई तो उसकी रिपोर्ट नॉर्मल आई वही उनके परिजनों का आपा खो गया और किशोरी के परिजन ने प्रेग्नेंसी की रिपोर्ट देने वाले डायग्नोस्टिक सेंटर पर जाकर जमकर हंगामा काटा और पुलिस में जाकर केस दर्ज कराया।

दरअसल डलमऊ क्षेत्र की रहने वाली युवती के पेट में दर्द था युवती अपनी बड़ी बहन के साथ शहर स्थित डॉ डायग्नोस्टिक सेंटर एस के मिश्रा के पास इलाज के लिए आई जो कि उसकी छोटी बहन 6 साल से पैनिक अटैक का शिकार है इस बात को डॉक्टर से बताया गया डॉक्टर ने अल्ट्रासाउंड कराने के लिए बोला उसने अपनी छोटी बहन को लेकर शहर के डायग्नोस्टिक सेंटर पर आई यहां जांच कर जो रिपोर्ट दी गई उसे देखकर दोनों बहने दंग रह गई है बड़ी बहन रिपोर्ट दिखाने डॉक्टर एस के मिश्रा के पास आई डॉक्टर ने रिपोर्ट देखकर एक बार पुनः अल्ट्रासाउंड के लिए भेजा यहां जांच के बाद रिपोर्ट नॉर्मल आई जिसके बाद परिजनों ने डायग्नोस्टिक सेंटर के खिलाफ पुलिस को तहरीर देकर मामला दर्ज करवाया।

वही पीड़ित की बड़ी बहन की माने तो मेरी बहन पैनिक अटैक की 6 साल की मरीज है जिसको मैंने डॉ एसके सिंह को दिखवाया डॉक्टर ने अल्ट्रासाउंड के लिए बोला तो मैं बहन को लेकर शहर स्थित डायग्नोस्टिक सेंटर पर आई तो यहां पर अल्ट्रासाउंड में 1 महीने की प्रेगनेंसी दिखा दी गई फिर जब वापस लौटकर डॉक्टर साहब को बताया तो उन्होंने दूसरी जांच करवाने को बोला जिसमें रिपोर्ट नॉर्मल है फिर जब यहां शहर स्थित डायग्नोस्टिक आई तो यहां जब मैंने इनको बोला कि जो रिपोर्ट आपने दी है वह गलत है तो यह बहस करने लगे और झगड़े पर आमादा हो गए जिसकी सूचना मैंने पुलिस को दे दी है।

वही जांच करने गए एसआई ने बताया कि एक लड़की के द्वारा एप्लीकेशन प्राप्त हुई है की डायग्नोस्टिक सेंटर पर जाकर जांच कराया गया जहां पर मुझे 1 महीने का प्रेग्नेंट बताया गया वही हम दूसरी जगह जब अल्ट्रासाउंड कराया तो अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट नार्मल आई। जिसके बाद मैं डायग्नोस्टिक सेंटर पहुंचा वहां पर जांच पड़ताल शुरू की वही सेंटर के डॉक्टर ने अभद्र भाषा का प्रयोग किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.