संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत, मायके पक्ष ने लगाया दहेज हत्या का आरोप

0
209

शिवगढ़,रायबरेली। शिवगढ़ थाना क्षेत्र के चितवनियां गांव की रहने वाली 25 वर्षीय विवाहिता  कोमल की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मृतका के मयके पक्ष ने दहेज हत्या का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी किन्तु पुलिस ने मुकदमा दर्ज नही किया। विदित हो कि बाराबंकी जिले के हैदरगढ़ कोतवाली क्षेत्र अन्तर्गत घरकोइया के रहने वाले शिवकुमार ने 4 वर्ष पहले अपनी पुत्री कोमल की शादी चितवनियां गांव के रहने वाले दीपक पुत्र रामआसरे शर्मा के साथ की थी। शिवकुमार ने बताया कि उसने अपनी हैसियत के हिसाब से दान दहेज देकर हिंदू रीति रिवाज के हिसाब से बेटी की शादी की थी। मंगलवार की सुबह विवाहिता की अस्पताल ले जाने से पहले उसकी मौत हो गई। जैसे ही मौत की सूचना मायके पक्ष को मिली मायके पक्ष से विवाहिता के माता-पिता सहित भारी संख्या में लोग विवाहिता की ससुराल चितवनियां पहुंचे गए। पहले तो यह हुआ कि विवाहिता की मौत बीमारी के चलते हुई लेकिन समय पूर्वाहन 11 बजे मायके पक्ष के लोग भारी संख्या में थाने के गेट के पास इकट्ठा होने लगे सभी लोगों का आरोप था कि दहेज के चलते विवाहिता की मारने पीटने से मौत हुई है। थाने में विवाहिता की पिता शिवकुमार ने तहरीर दी की उसकी बेटी को दहेज के लिए दामाद दीपक व मां मारा-पीटा करती थी, 2 दिन पहले घर से भी भगा दिए थे। मंगलवार की सुबह पता चला कि मेरी बेटी की तबीयत खराब है लेकिन जब हम लोग पहुंचे तो बेटी की मौत हो चुकी थी। जिसकी तहरीर हम लोगों ने थाने में दी लेकिन पुलिस ने एक भी नही सुनी, पुलिस इसको बीमारी से मौत होना बता रही है। आलम ये था कि मायके के पक्ष के लोग थाने के सामने रोते – गिड़गिड़ाते रहे लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज करना मुनासिब नहीं समझा। इस बारे में जब थाना प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र मोहन सरोज से बात-चीत की गई तो उनका कहना था कि सुबह यह लोग कह रहे थे कि मेरी बेटी की  मौत बीमारी के चलते हुई है। इसलिए कोई मुकदमा नहीं लिखा गया सुलह समझौता हो गया था पंचनामा भी भर दिया गया था लेकिन अब यह लोग कह रहे हैं कि दहेज के कारण मेरी बेटी की हत्या की गई। हांलाकि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

मासूम बेटे के सर से उठ गया मां साया—–

25 वर्षीय विवाहिता कोमल की मौत से उसके डेढ़ वर्ष के दुधमुहे बेटे शनी के सिर से मां का साया उठ गया। मासूम बेटे सनी का रो रोकर बुरा हाल है। जो मृत पड़ी मां के पास जाने के लिए बार – बार बिलख-बिलग कर रो रहा था। जिसे देखकर हर किसी की आंखें नम हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.