पठन पाठन के लिए बनाई गई करोड़ों की बिल्डिंग हो रही जर्जर

0
139

रायबरेली। ( मनीष अवस्थी ) जहां एक तरफ सरकार पठन-पाठन पर करोड़ों रुपए खर्च कर गुणवत्ता बढ़ाने की कोशिश कर रही है। वही रायबरेली में पठन-पाठन के लिए बनाई गई करोड़ों की बिल्डिंग जर्जर हो रही है। जिस की सुध लेने वाला कोई भी जिम्मेदार अधिकारी नहीं है। बनी हुई बिल्डिंग में आवारा जानवर अपना आशियाना बना रहे हैं तो उसके दरवाजे व खिड़कियां चोर चोरी कर ले जा रहे हैं । फिलहाल प्रशासनिक अधिकारी इस पर कुछ बोलने से पल्ला झाड़ते नजर आ रहे हैं । मिल एरिया थाने के पीछे खोर में करोड़ों की लागत से बिल्डिंग बनी हुई है।

मिल एरिया थाना क्षेत्र में काशीराम आवास योजना के बगल खोर में एक सरकारी दो मंजिला बिल्डिंग बनी हुई है। बिल्डिंग बने लगभग 10 साल पूरे हो रहे हैं लेकिन उसमें अभी तक कोई भी सकारात्मक कार्य शुरू नहीं हो सका है। आसपास के लोगों द्वारा बताया जा रहा है कि यह बिल्डिंग पठन-पाठन के लिए बनाई गई थी लेकिन शिक्षा विभाग को यह बिल्डिंग अभी तक सौपी नहीं गई है। वहीं दूसरी तरफ करोड़ों की लागत से बनी बिल्डिंग में आवारा जानवर अपना आशियाना बना रहे हैं। बिल्डिंग में लगे हुए दरवाजे व खिड़कियां चोरों द्वारा चोरी कर ली गई । बनी हुई बिल्डिंग का कोई भी प्रशासनिक अधिकारी अभी तक सुध लेने वाला नहीं मिला है।

करोड़ों रुपए की लागत से बनी बिल्डिंग की देखरेख व जानकारी देने वाला कोई भी प्रशासनिक अधिकारी आगे नहीं आ रहा है। पिछले 10 सालों से बनी हुई बिल्डिंग बिना देखरेख अब जर्जर अवस्था में पहुंचती जा रही है। जिस उद्देश्य से बिल्डिंग का निर्माण कराया गया था। वह उद्देश्य भी पूरा होता नहीं दिख रहा है। गरीब बच्चों के पठन-पाठन के लिए यह बिल्डिंग बनाई गई थी लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों के उदासीन रवैये से ना सिर्फ सरकार के राजस्व को चूना लगा बल्कि हजारों नौनिहालों के भविष्य पर भी ग्रहण लग गया है। अगर बनाई हुई बिल्डिंग में पठन-पाठन शुरू हो गया होता तो हजारों नौनिहाल शिक्षित होकर आगे के पायदान पर पहुंच चुके होते। अब देखना यह है की प्रशासन अभी जागता है या पहले की तरह ही कुम्भकर्णी नींद में सोते हुए इसे ठंडे बस्ते में डाल देता है।

शिवेंद्र प्रताप सिंह जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि मामला अभी संज्ञान में आया है। खंड शिक्षा अधिकारी नगर को इस आशय कह दिया गया है जल्द ही इसका पता लगाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.