अमेठी: पंचायती राज विभाग में लाखों का खेल,सरकारी धन के हेरफेर की शिकायत

0
325

डीएम के निर्देश पर जिला विकास अधिकारी कर रहे हैं जांच

अमेठी और तिलोई ब्लाक मे सरकारी धन के हेरफेर की शिकायत

अमेठी:  अमेठी की एक पहचान भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी मे भी बनती जा रही है। किसी भी विभाग को देखिए आप पाएंगे कि सरकारी आंकडे और जमीनी सच मे जमीन आसमान का फर्क है। इसके पीछे सबसे बडा कारण जहां प्रशासनिक लापरवाही है तो दूसरा कारण यहां के राजनीतिक प्रतिष्ठानो पर अराजनीतिक लोगो का काबिज होना भी माना जा रहा है।

जिले मे स्थानीय प्रशासन के दावे और स्थलीय सच्चाई मे कोई साम्य नही दिखेगा। इसकी बानगी आप पंचायतीराज विभाग द्वारा ओडीएफ घोषित किसी भी गांव मे जाकर देख सकते हैं। अब ताजा मामला ग्राम्य विकास विभाग से सामने आया है। यहां पंचायत सचिवों द्वारा लाखो रूपये का सरकारी धन अपने चहेतो के खातो मे ट्रांसफर किये जाने का मामला प्रकाश मे आया है। इस मामले की शिकायत बीती 19 जुलाई को सुरजीत यादव निवासी इक्काताजपुर शुकुलबाजार ने डीएम राकेश कुमार मिश्र से की थी।

इस शिकायत की जांच डीएम ने जिला विकास अधिकारी को सौंपी है। जिसके क्रम मे डीडीओ तेजभान सिंह ने अमेठी ब्लाक के दो ग्राम विकास अधिकारियों धर्मेन्द्र श्रीवास्तव तथा संजय कुमार को सभी रिकार्ड के साथ तलब किया था। इन दोनो पर आरोप है कि इन्होंने सात ग्राम पंचायतों के सरकारी खातो से 697124 रूपये अपने चहेतों के खाते मे ट्रांसफर कर दिये। इसी तरह तिलोई ब्लाक मे ग्राम पंचायत विकास अधिकारी अनुराग यादव ने 11 ग्राम पंचायतो के खातो से अनधिकृत व्यक्ति को 331001 रूपये ट्रांसफर कर दिये। इस मामले के शिकायतकर्ता प्रधान प्रतिनिधि/पत्रकार सुरजीत यादव ने जिलाधिकारी से सशपथ की गयी शिकायत मे तीन सौ से अधिक पंचायतों मे करोडो की धनराशि का इसी तरह बंदरबांट किया गया है। जिसकी जांच होनी चाहिए। यहां दिलचस्प है कि पीएम और सीएम भ्रष्टाचार पर जीरो टोलरेंस पालिसी के तहत ईडी और बुलडोजर कार्रवाई चला रहे हैं वही निचले स्तर पर इसका असर रत्ती भर नही दिखता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.