Har Ghar Tiranga: अलीगढ़ में हर घर तिरंगा को लेकर नगर निगम ने शुरू किया विशेष अभियान

0
70

 अलीगढ़:  हर घर तिरंगा’ अभियान को सफल बनाने में जुटे नगर निगम ने करदाताओं को भी इसमें भागीदार बना लिया है। गृहकर लेकर इन्हें तिरंगा दिया जा रहा है। करदाता 21 रुपये प्रति झंडा जमा कर रहे हैं। हालांकि, ये ऐच्छिक है। स्वतंत्रता दिवस पर घर, प्रतिष्ठानों पर तिरंगा लहराने के लिए करदाताओं से सहयोग राशि के रूप में ये रूपये लिए जा रहे हैं। ये धनराशि उन महिला समूहों को दी जाएगी, जो तिरंगा झंडा बना रहे हैं

आजादी की 75वीं वर्षगांठ को लेकर समूचा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। इसी महोत्सव के तहत हर घर तिरंगा अभियान शुरू हुआ है, जिसका दायित्व जिलेभर के विभिन्न सरकारी विभागों को सौंपा गया है। नगर निगम पर एक लाख तिरंगा झंडा लगवाने का लक्ष्य है। 11 से 17 अगस्त तक घर, प्रतिष्ठानों पर तिरंगा फहरवाने के कार्यक्रम तय किए गए हैं। स्कूल, कालेज, सार्वजनिक स्थलों पर गोष्ठियां कर निगम अधिकारी अभियान के प्रति लोगों को जागरूक कर रहे हैं। राष्ट्रीय ध्वज संहिता के बारे में भी बताया जा रहा है। सामाजिक संगठनों से निगम अधिकारी सहयोग मांग रहे हैं।

 

मंगलवार को सेवाभवन में आयोजित कार्यशाला में इनरव्हील व रोटरी क्लब के पदाधिकारियों को अभियान की जानकारी दी गई। अपर नगर आयुक्त अरुण कुमार गुप्त ने कहा कि campaign on tricolor गर्व का विषय है। घर, प्रतिष्ठानों पर तिरंगा फहराने के लिए शहर के हर व्यक्ति के सहयोग की आवश्यकता है। इनरव्हील व रोटरी क्लब के पदाधिकारियों ने सहयोग का विश्वास दिलाया। कार्यशाला में सहायक नगर आयुक्त पूजा श्रीवास्तव, दीप्ति अग्रवाल, हर्षिता, मोनिका तापर, तान्या, कल्पना, तपेश पवार, मुकेश अग्रवाल, नागेंद्र सिंह अभिनव माहेश्वरी आदि शामिल रहे।

 

 

तिरगां झंडा 21 रुपये का भुगतान

नगर निगम द्वारा महिला समूहों से एक लाख झंडे तैयार कराए जा रहे हैं। प्रति झंड़ा 21 रुपये का भुगतान समूहों को किया जाएगा। सेवाभवन में गृहकर, जल मूल्य जमा करने के लिए काउंटर बने हुए हैं। इन्हीं काउंटरों पर झंडे रखवा दिए गए हैं। गृहकर और जल मूल्य जमा करने आ रहे करदाताओं से 21-21 रुपये लेकर झंडा दे दिया जाता है। बुधवार को सेवाभवन से निकले करदाताओं के हाथों में झंडे लगे हुए थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.