अमेठी:खाद की कमी से किसान परेशान,ब्लैक में ऊंचे दामों पर भी नहीं मिल पा रहा यूरिया

0
693

अमेठी से सफीर अहमद की रिपोर्ट

शुकुल बाजार: अमेठी धान की फसल पर यूरिया की टाप ड्रेसिग का समय चल रहा है और जिले से संचालित समितियों से अधिकांश पर से यूरिया नदारद है। रोज-रोज समितियों का चक्कर लगाकर थक चुके किसान अब बाजार का रुख करने को मजबूर हैं। खुले बाजार में यूरिया तो उपलब्ध है लेकिन वह महंगे दामों पर बिक रही है। शुद्धता की भी गारंटी नहीं है। यूरिया 320 से 400 रुपये प्रति बोरी बिक रही है सबसे बड़ी बात यूरिया बोरी के साथ 1 किलो जिंक भी अनिवार्य है जिसकी कीमत 90 रुपया बताई जा रही है जबकि समितियों पर यह 270 रुपये प्रति बोरी मिलती है।समिति पर कार्यरत सचिवों का कहना है कि जिला मुख्यालय से उन्हें यूरिया नहीं मिल रही तो कैसे वितरित करे।

किसानों पर पड़ रही दोहरी मार

विकासखंड में विगत दिनों से यूरिया नदारद होने से किसान परेशान हैं। समिति से संबंधित गांवों किसानों को यूरिया के लिए परेशान होना पड़ रहा है। मजबूरी में वह बाजार से महंगे दर पर यूरिया खरीद रहे हैं जहां उनको मिलावट व घटतौली का शिकार होना पड़ रहा है। किसान राज कपूर शिवप्रसाद रघुवीर दिनेश आदि का कहना है कि यूरिया न होने से परेशानी हो रही है।
यूरिया खाद के अभाव के चलते किसान त्रस्त हैं। प्राइवेट दुकानों पर मनमाने दामों पर यूरिया बेची जा रही है जिससे किसान महंगे दर पर खाद खरीदने पर मजबूर हैं। क्षेत्रीय किसानों द्वारा जानकारी की गई तो उन्होंने कहा अधिक दर खाद बेच रहे दुकानदारों के खिलाफ न तो कभी जांच होती है न ही कार्रवाई मार्केट में सजी खाद की दुकानों की प्रशासन द्वारा कोरम ही पूरा किया जाता है जिससे खाद विक्रेताओं के हौसले बुलंद है। किसान यूनियन वरिष्ठ नेता देवी दयाल शर्मा शेषनाथ तिवारी राम प्रसाद रावत त्रिवेणी बाबा कुसुम बद्री यादव आदि किसानों ने खाद की कालाबाजारी रोकने व समितियों पर खाद उपलब्ध कराने डीएम अमेठी से मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.