मृत्यु सर्टिफिकेट बनवाने के लिए महीनों से वृद्ध महिला काट रही चक्कर…..

0
739

मनीष अवस्थी

हरचन्दपुर रायबरेली– ब्लाक हरचन्दपुर में जन्म व मृत्यु सर्टिफिकेट बनवाना आसान काम नहीं है। ब्लाक के कार्यकारी अधिकारी की ओर से जन्म-मृत्यु शाखा को नोटिस जारी कर सर्टिफिकेट बनाकर देने का एक समय निर्धारित किया गया था, लेकिन ब्लाक कार्यालय में हालात यह हैं कि कोई पंद्रह दिनों से तो कोई महीनों से अपने बच्चों का जन्म हो या म्रत्यु सर्टिफिकेट के लिए लोगो चक्कर काटते देखा जा सकता है, जबकि सरकार द्वारा निर्धारित समय पर अनिवार्य सेवाएं निपटाने के लिए समय सीमा सुनिश्चित की गई है। इस मामले में न तो अधिकारी न ही कर्मचारी गंभीरता से ले रहे है। वहीं दूर-दराज से आ रहे लोग निराश लौट रहे है।

महीनों से नहीं मिला म्रत्यु सर्टिफिकेट

हरचन्दपुर के प्यारेपुर निवासी सुरजूदेई ने बताया कि उसके पति राम कृपाल पाल की मृत्यु 12 दिसंबर 2019 सड़क हादसे में हुई थी जिसके बाद से वह चक्कर काट रही है लेकिन अभी तक ग्राम पंचायत अधिकारी ने मृत्यु सर्टिफिकेट बना कर नहीं दिया है और कभी हलफनामा बनवा कर लाओ कभी प्रधान से लिखवा कर लाओ कभी मेडिकल रिपोर्ट लेकर आओ इन्हीं बातों का बहाना कर करके उसको 6 महीने से चक्कर कटवाए जा रहे हैं । थक हार कर महिला ने इसकी शिकायत खंड विकास अधिकारी से की जिसके बाद भी ग्राम पंचायत अधिकारी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा मजबूर होकर महिला को एसडीएम रायबरेली के पास पहुंचना पड़ा वही मामले को संज्ञान में लेकर एसडीएम सदर ने मामले की जांच कर आख्या प्रेषित करने के आदेश दिए लेकिन ऐसे कर्मचारियों पर एसडीएम का भी कोई आदेश
मायने नहीं रखता।

पीड़ित महिला ने क्या कहा

वही महिला सरजूदेइ की माने तो मेरे पति की सड़क हादसे में 12 दिसंबर 2019 को मौत हो गई थी जिसके बाद से पति का म्रत्यु सर्टिफिकेट बनवाने के लिए ब्लॉक के कई चक्कर काट चुकी हूं लेकिन अभी तक ग्राम पंचायत अधिकारी ने सर्टिफिकेट नहीं बना कर दिया कभी मुझसे मेडिकल रिपोर्ट लाने की बात कभी प्रधान के लेटर पैड पर लिख वाने की बात वह कोर्ट का हलफनामा लाने की बात कही जाती थी जो कि सारे कागज मैंने हर जगह से लाकर दे दिया है उसके बाद भी मुझे अभी तक मृत सर्टिफिकेट बना कर नहीं दिया गया है जिसकी एक बार फिर शिकायत मैंने खंड विकास अधिकारी से की है।

ग्राम पंचायत अधिकारी ने क्या कहा

वहीं जब प्यारेपुर के ग्राम पंचायत अधिकारी उमा गुप्ता से बात की गई तो उन्होंने साफ तौर पर यह बताया कि जबसे lock-down लगा है तब से ऑनलाइन म्रत्यु सर्टिफिकेट बनना बंद हैं जिनके कारण इनका अभी म्रत्यु सर्टिफिकेट नहीं बन पा रहा है।

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब ऑनलाइन सर्टिफिकेट नहीं बन रहे हैं तो फिर इस महिला को 6 महीने से चक्कर क्यों कटवाए जा रहे हैं यह एक बड़ा सवाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.