अमेठी: हाथों में कलम-कॉपी की जगह अध्यापकों ने पकड़ा दी बाल्टी

0
307

अमेठी: सरकार गरीबों के बच्चों को अच्छी शिक्षा के लिए लगातार प्रयास रत दिखाई पड़ रही है भोजन, कपड़ा व किताबें सरकार फ्री में बच्चों को दे रही है जिससे गरीब के बच्चे भी बिना रुकावट के अच्छी शिक्षा हासिल कर सके। लेकिन सरकार के मंसूबों पर उन्ही के अध्यापक पानी फेरते नजर आ रहे है प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर पर सरकारी विद्यालय में बच्चों को मात्र साफ-सफाई व पानी ढोने का जरिया शिक्षक बना रखे हैं।

पूरा मामला संग्रामपुर खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय के बगल स्थित प्राथमिक विद्यालय भौसिंहपुर कालिकन का है जहाँ के छोटे छोटे बच्चों द्वारा पानी ढोने का वीडियो सामने आया है जिसमें विद्यालय में कार्यरत अध्यापकों द्वारा निष्ठा ट्रेनिंग के लिए आये शिक्षकों के लिए शौचालय में बच्चों द्वारा पानी भरा जा रहा है।

आपको बता दे खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में 150 शिक्षकों की 5 दिवसीय निष्ठा ट्रेनिंग चल रही है जिसमें दिन भर शिक्षक रहकर ट्रेनिंग ले रहे हैं जिसमें शौचालय व बाथरूम के उपयोग के लिए पर्यटन विभाग द्वारा निर्मित शौचालय का उपयोग शिक्षकों द्वारा किया जा रहा है । जिसमें छोटे छोटे बच्चों द्वारा बड़ी-बड़ी बाल्टी से पानी भरते वीडियो सामने आया है। काश अगर ये अमीर घर के बच्चे होते तो इनके हाथों में कापी कलम होता लेकिन साहब ये तो गरीब के बच्चे है फ्री में शिक्षा ले रहे हैं तो बाल्टी ढोना साफ-सफाई करना इनके लिए आम बात है। गलती इनकी नही है साहब इनके गरीबी का जो ऐसा करने पर मजबूर कर रही है।

अब सवाल यह उठता है कि खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय के सामने से बच्चे पानी ढो रहे हैं क्या खण्ड शिक्षा अधिकारी की निगाहें क्या इन पर नही पड़ी होगी। अब देखना होगा गरीब के बच्चों के मजबूरी का फायदा उठाकर शौचालय में पानी ढोने पर मजबूर करने वाले अध्यापकों पर क्या कार्यवाही होगी ।

सुरेन्द्र शुक्ला की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.