अमेठी:नौनिहाल बच्चों से विद्यालय परिसर की कराई जाती है साफ – सफाई

0
661

अमेठी: खण्ड विकास शुकुल बाजार के अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय मवैया में नौनिहाल बच्चों से झाडू लगवाई जाती है l गांव मवईया प्राथमिक विद्यालय परिसर की नौनिहाल बच्चों से कराई जाती है साफ -सफाई l यहां पढ़ाने की जगह बच्चों से लगवाई जाती है झाड़ू ।

वर्ष-2019- 2020 में शिक्षा का अधिकार कानून पारित कर सरकार भले ही बच्चों को शत-प्रतिशत साक्षर बनाने का दावा कर रही हो, लेकिन बुनियादी सुविधाएं बच्चों को अब तक नहीं मिल सकी है। खासकर, ग्रामीण क्षेत्रों में ,उत्तर प्रदेश सरकार के स्कूलों की स्थिति बहुत ही खराब है। अगर प्राथमिक विद्यालय मवैया रहमत गढ़ की स्थिति किसी ने देखी हो तो सरकार के दावों पर कतई यकीन नहीं करेगा।

आलम यह है कि कक्षा लगने के बाद जिन बच्चों के हाथों से कलम चलने चाहिए वहां बच्चे झाडू लगाने को मजबूर हैं। यूं कहे तो स्कूल की सफाई का जिम्मा बच्चों पर ही है। जबकि स्कूल में सफाई कर्मचारी होने के बावजूद बच्चों के साथ ऐसा दु‌र्व्यवहार किया जा रहा है। वही संभ्रांत व्यक्तियों का कहना था कि प्रधानाध्यापक विद्यालय आते ही नहीं ।

स्कूल में लगभग सौ से अधिक बच्चे है ।

प्राथमिक विद्यालय मवैया में चलता है। छात्र-छात्राओं की संख्या सौ से अधिक हैं।
छात्र लगाते हैं झाडू : स्कूल खुलने के बाद छात्राओं से पूरे क्लास व बरामदे में झाडू लगवाया जाता है।

बुनियादी सुविधाओं का भी अभाव : स्कूल में खेल सुविधाओं का अभाव है। बताया जा रहा है शौचालय की स्थिति भी ठीक नहीं है वही इस विद्यालय में एक प्रधानाध्यापक व एक अध्यापिका पोस्ट हैं।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद उत्तर प्रदेश सरकार विद्यालय में बुनियादी सुविधाएं दूर करने में सक्षम नहीं है। पढ़ाई के समय बच्चों से झाडू लगवाया जाता है। ऐसे में बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

सोनू , राम जियावन विश्वकर्मा, भारत विश्वकर्मा, राममिलन गौतम ने कहा स्कूल की सफाई व्यवस्था ठीक नहीं है। बच्चों से सफाई कराया जा रहा है। मामले में ट्वीट के माध्यम से शिकायत जिलाधिकारी को भी दे दिया गया लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। सफाईकर्मी हैं, सिर्फ वेतन ही लेते पहुंचते हैं। उसके बाद महीने में एक दिन भी सफाई के लिए नहीं आता।

वही संबंधित खण्ड शिक्षा अधिकारी से बात करना चाहा तो उन्होंने यह कहकर फोन काट दिया कि वह कहीं अलग व्यस्त हैं बाद में बात करते हैं लेकिन फिर दोबारा पत्रकार के द्वारा बात करने का प्रयास किया गया तो बात नहीं हो सकी ।

शुकुल बाजार से सुरेंद्र शुक्ला की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.