मोहनलालगंज:यूनियन ने रेल मंत्रालय द्वारा पुनर्गठन निजीकरण के विरोध में बैठक

0
236

मोहनलालगंज: रेलवे स्टेशन पर ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के आवाह्न पर नार्दन रेलवे मेंस यूनियन की शाखा रायबरेली ने रेल मंत्रालय वह भारत सरकार द्वारा रेलवे बोर्ड के पुनर्गठन निजीकरण के विरोध में सघन विरोध किया।

जिसके तहत पूरी शाखा गंगागंज से मोहनलाल गंज तक प्रत्येक गेट गैंग स्टेशन पर जाकर सभी कर्मचारियों से मिलकर विरोध किया मोहनलालगंज में केंद्रीय कोषाध्यक्ष एवं जोनल यूथ कोऑर्डिनेटर मनोज श्रीवास्तव सहायक मंडल मंत्री सुधीर तिवारी रायबरेली शाखा मंडल प्रभारी राकेश कनौजिया मंडल उपाध्यक्ष संजय श्रीवास्तव के साथ एक विशाल जनसमूह को संबोधित किया रेल मंत्रालय भारत सरकार के कर्मचारियों विरोधियों नीतियों का विरोध किया केंद्रीय कोषाध्यक्ष मनोज श्रीवास्तव ने बताया की रेल मंत्रालय एवं भारत सरकार की मंशा पूरी तरीके से भारतीय रेल निजी हाथों में सौंपने की मंशा है।

जिससे न केवल कर्मचारी एवं यात्री को भी भारी नुकसान उठाना पड़ेगा दुनिया भर में जहां-जहां रेल निजी हाथों में है वहां रेलों का राष्ट्रीयकरण हो रहा रेल देश की जीवन रेखा है जिस पर गरीब से अमीर तक के यात्री सफर करते हैं परंतु निजी हाथों में जाने वाली गाड़ियों पर आम जनता का यात्रा करना मुश्किल हो जाएगा कर्मचारियों को अपना जीवन स्तर जीना मुश्किल हो जाएगा उन्होंने युवाओं से अपील की अधिक से अधिक समस्याएं युवाओं की है चाहे वह एनपीएस की हो चाहे वह निजी करण का हो अतः युवा आगे आए और सरकार व रेल मंत्रालय से दो-दो हाथ करने को तैयार हो जाए आने वाले समय में आवश्यकता पड़ने पर रेल का चक्का जाम करने को तैयार रहें वही सुधीर तिवारी ने बताया कि अगर कर्मचारियों को निजी करण एनपीएस के श्राप से बचना है तो इसका एकमात्र उपाय रेलो का हड़ताल करना पड़ेगा अतः समयानुसार शीर्ष नेतृत्व के आदेशों पर अमल करने के लिए कहा वहीं मंच का संचालन कर रहे सह शाखा मंत्री राकेश तिवारी ने सभी का अभिवादन किया इस मौके पर शाखा अध्यक्ष जावेद मसूद शाखा मंत्री देव कुमार शाखा उपाध्यक्ष रवि रंजन कुमार अल्ताफ अहमद राकेश कुमार एफएम खान झब्बू यादव नरेश मिश्रा अरुण कुमार मिश्रा रामशरण यादव यादव के राजीव पांडे सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

अरविन्द सिंह की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.