विद्यालय का दूषित पानी व भोजन करने से 45 छात्राएं हुई बीमार, 1 दर्जन गंभीर

0
405

आश्रम पद्धति विद्यालय प्रशासन की घोर लापरवाही उजागर”

रिपोर्ट- विष्णु कान्त श्रीवास्तव

बछरावां रायबरेली। क्षेत्र के रैन ग्राम सभा में स्थित राजकीय आश्रम पद्धति बालिका इंटर कॉलेज में मंगलवार की सुबह भोजन करने के उपरांत फूड प्वाइजनिंग से विद्यालय की 45 छात्राएं बीमार हो गई जिन्हें आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बछरावां में भर्ती कराया गया। घटनाक्रम के अनुसार आज सुबह भोजन करने के उपरांत विद्यालय की छात्राओं की तबीयत बिगड़ने लगी और देखते ही देखते कई छात्राएं बीमारी की जद में आ गई छात्राओं की बीमारी की सूचना से प्रशासनिक हलके के साथ ही विद्यालय प्रशासन में भी खलबली मच गई।

ग्रामीणों की मदद से 108 एंबुलेंस को बुलवाकर बीमार हुई छात्राओं को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बछरावां में भर्ती कराया गया जहां पर 18 छात्राओं की हालत गंभीर होने की दशा में उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। विदित हो कि आश्रम पद्धति विद्यालय में मौजूदा समय में 300 छात्राएं शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। समाज कल्याण विभाग की देखरेख में चलने वाले विद्यालय की पूरी व्यवस्था आवासीय है। कक्षा 6 से इंटर तक की छात्राओं को शिक्षा दिलाने के लिए खुले इस विद्यालय में घोर लापरवाही बरती जा रही है। पूरे विद्यालय में गंदगी का अंबार लगा हुआ है,शौचालयों में जगह-जगह पानी भरा हुआ है, विद्यालय के चारों तरफ कूड़े के ढेर हैं व बड़ी बड़ी झाड़ियां है, जिन में बारिश के दिनों में विद्यालय में कई बार सांप व बिच्छूओं का आवागमन हुआ है। विद्यालय की छात्राओं से बात करने पर उन्होंने बताया कि विद्यालय की सफाई व्यवस्था बिल्कुल ना के बराबर है,

छात्राओं के कमरों में लाइट आती नहीं है पंखे लगे हुए हैं लेकिन चलते नहीं हैं कुछ पंखे हवा में लटके हुए हैं एक पंखा रस्सी के सहारे लटका हुआ है जिससे एक छात्रा चोटिल होते होते बची। विद्यालय की पानी की टंकी में ढक्कन ही नहीं है उसमें बड़ी-बड़ी काई और गंदगी का अंबार भरा हुआ है और उसी पानी से खाने खाना बनाया जाता है घटना की सूचना पर समाज कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक सुनील बिसेन जब विद्यालय पहुंचे तो टंकी के पानी को खाली कर दिया गया था और विद्यालय की साफ सफाई करके ब्लीचिंग आदि डाल दी गई थी। आज छात्राओं द्वारा सुबह का नाश्ता करने के बाद एक एक करके सभी छात्राओं की तबीयत खराब होने लगी और देखते ही देखते 45 छात्राओ को सिर में दर्द, सीने में दर्द, पेट में जलन, पेट में दर्द आदि समस्याओ ने घेर लिया। घटना की सूचना पर जिलाधिकारी नेहा शर्मा, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह व मुख्य चिकित्सा अधिकारी रायबरेली भी मौके पर पहुंचे और उन्होंने भी हालात का जायजा लिया। सीएमओ ने छात्राओं के बेहतर उपचार का दावा किया है। जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने कहा कि छात्राओं की हालत ठीक है गर्मी ज्यादा पड़ने और भोजन में कहीं ना कहीं गड़बड़ी होने के कारण छात्राये बीमार हुई हैं,खाना और पानी का सैंपल ले लिया गया है इसकी जांच कराई जाएगी इसमें जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होगी। छात्राओं के बीमार होने की जानकारी जब परिजनों को हुई तो वह भी मौके पर पहुंचे परिजनों ने भी विद्यालय पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाकर प्रशासन से मामले की जांच कर कार्यवाही की मांग की है। अब प्रश्न यह उठता है कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद प्रशासन की नींद टूटती है या नहीं या फिर और बड़ी दुर्घटना का इंतजार करेंगे यह एक यक्ष प्रश्न है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.