घायल बेटी रिया के आपरेशन के लिए आर्थिक मदद की दरकार

0
420

(जीवन -मौत से हास्पिटल में सघंर्ष कर रही गरीब रिया के आपरेशन के लिये बेबस माँ को सरकार व आम जन मानस से आर्थिक मदद की दरकार है)

मोहनलालगंज।एक तो गरीबी और ऊपर से दुर्घटना हो जाये तो गरीब आदमी की दशा क्या हो सकती है, इसका अंदाजा लगाने से ही दिमाग सिहर उठता है।ऎसे मे दुर्घटना में घायल के उपचार के लिए पाई-पाई के लिए मोहताज लोगों को हर हाथ से मदद की उम्मीद होती है। ऐसी ही उम्मीद लखनऊ के वृदावन कालोनी सेक्टर -6मे रहने वाली विधवा मिथिलेश गुप्ता को है। मिथिलेश गुप्ता किसी तरह लोगो के घरो में काम कर अपना व अपने तीन बच्चो रिया,रोली ,निमित का भरण पोषण करती है। कुछ दिन पहले तक तो मिथिलेश का परिवार आर्थिक तंगहाली के बावजूद हंसी खुशी जीवन बिता रहा था लेकिन बीते 1अगस्त को बङी बेटी रिया(24वर्ष) सङक दुर्घटना में गम्भीर रूप से घायल हो गयी ओर उसकी सर में गम्भीर चोटे आ गयी। जिसके बाद माँ मिथिलेश बेटी रिया को इलाज के लिये इन्दिरानगर के सीएनएस हास्पिटल लेकर गयी।जहाँ डाक्टरो ने सर में गहरी चोट होने की बात कहकर दो आपरेशन करने की बात कही जिसके बाद माँ के पास थोङी बहुत जमा पूंजी थी वो पहले आपरेशन में खत्म हो गयी जिसके बाद भी बेटी को होश नही आया। डाक्टरो ने दूसरे आपरेशन में परिवार को 6से 7लाख का खर्च बताया ।बेटी के उपचार पर लाखों का खर्च आने का पता चलने पर मिथिलेश टूट सा गयी। परंतु बेटी को बचाने की उसकी हिम्मत नहीं टूटी। थोड़े बहुत पैसे जो जोड़ कर रखे थे उनसे बेटी को अस्पताल में भर्ती कर उपचार तो शुरू कर रखा है लेकिन बेटी के इलाज के लिये 6से 7लाख रूपये की बङी रकम जुटाना बेबस माँ के बस में नहीं है।बेटी के उपचार के लिए असहाय माँ को सूबे के मुख्यमंत्री सहित आम जनमानस से आर्थिक मदद की दरकार है।रिया के आपरेशन के लिये आर्थिक मदद की दरकार का सोमवार को मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मोहनलालगंज सब रजिस्टार शालिनी अवस्थी ने दस हजार रूपये,समाजसेवी आशीष द्विवेदी,प्रभाकर दुबे ने एक एक हजार की आर्थिक सहायता इलाज के लिये परिवार को दी।वहीं अन्य लोग भी जो रिया के इलाज के लिए मदद करना चाहते हैं वे उसके एसबीआई के खाता संख्या 20251344275,
आईएफएससी कोड-SBIN0012830 में राशि जमा करवा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.