अमेठी-मुख्य सड़क बनी तालाब,रोज़ गिरते हैं राहगीर

0
590

अमेठी– बाजार शुक्ल विकास खण्ड के कटरा चौराहा एवं मवैया चौराहा मेन रोड जो इन्हौना से रूदौली को जोड़ती है। इस रोड पर सरकारी अस्सपताल, थाना, सरकारी और दर्जनों प्राइवेट स्कूल हैं। यह हजारों बच्चों के स्कूल जाने का भी रास्ता है। बच्चे अक्सर इस सड़क पर गिरकर चोटिल होते रहते हैं। और घर जाकर यही कहते हैं कि सड़क पर पानी बहुत भरा है पापा हम स्कूल नहीं जायेंगे।

यहां रहने वाले लोगों का कहना है कि अक्सर यह देखने को मिलता है कि सड़क पर स्कूल जाते हुए कीचड़ भरे गड्ढों में बच्चे गिर जाते हैं और उनकी ड्रेस खराब हो जाती है। यह मार्केट एरिया होने की वजह से इधर लोगों का काफी आना-जाना रहता है। किचड़युक्त सड़क को लेकर शुकुल बाजार के युवा सोशल मीडिया पर राज्यमंत्री सांसद व मौजूदा सरकार को घेरते देखें जाते हैं। यहॉ तक कि कई बार समाजसेवियों ने सड़क ठीक कराने को लेकर पत्राचार भी हुआ है। लेकिन कार्यवाही शून्य ही देखने को मिला है। काफी दिनों से यहां बरसात के बगैर भी पानी भरा रहता है और थोड़ी सी बारिश होने पर पूरी सड़क तालाब में तब्दील हो जाती है। पिछले दिनों इस सड़क को बनाने के लिए प्रकाशित खबर के बाद गिट्टियां भी गिराई गई। लेकिन सड़क बनाने का काम शुरू नहीं हुआ।

मवैया चौराहा से लेकर आम्बेडकर चौराहा तक एवं कटरा चौराहा से पाण्डेय गंज तक इन्हौना रूदौली मार्ग की मुख्य सड़क पर बरसात का पानी भरा हुआ है। सड़क पानी से पूरी तरह लबालब है। कहने को सड़क पर तालाब जैसा दिखता है। इस रास्ते से गुजरने में नागरिक परहेज करते हैं परंतु मजबूरी में यात्रा करनी पड़ती है। अन्य कोई दूसरा रास्ता भी नहीं है।

सड़क पर उभरे गड्ढों में आए दिन दुर्घटना होती रहती है। सड़क के जर्जर होने की जानकारी सभी को है परंतु कोई ध्यान नहीं देता। लोक प्रतिनिधि व अन्य अधिकारी भी इस रास्ते से गुजरते हैं, लेकिन किसी को यह समस्या नहीं नजर आती है। स्कूल के बच्चों को पानी में होकर जाना पड़ता है। राहगीर बताते हैं कि इस मार्ग पर रात्रि में परेशानी बढ़ जाती है। सड़क पर तालाब जैसा दृश्य है। यह रात में नजर न आने के कारण साईकिल सवार चोटिल होते हैं परंतु जिम्मेदार मौन हैं। राहगीरों की माने तो इस सड़क की स्थिति कई वर्षों से बदतर है।


अमेठी से सफीर अहमद की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.