ग्रामीण क्षेत्र में बिजली कटौती से किसानों में आक्रोश

0
392

महराजगंज रायबरेली। ग्रामीण छेत्र में बिजली कटौती होने से किसानों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बिजली के आभाव में किसान अपनी धान की सिचाई व रोपाई नहीं कर पा रहे हैं जिससे धान की फसल सूखने के कगार पर पहुंच गई है। अघोषित बिजली कटौती से उपभोक्ता आजिज आ चुके हैं। शासन के फरमानों का बिजली विभाग के अधिकारी व कर्मचारी धज्ज्यिां उड़ाने में लगे हुए हैं। बिजली किल्लत झेल रहे उपभोक्ताओं ने बताया है कि बिजली की कटौती बंद नही की गई तो लोग आंदोलन को बाध्य होंगे। बिजली पावर हाऊस त्रिपूला से जुड़े दर्जनों गांव में विद्युत आपूर्ति चरमरा गई है जो किसानों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। क्षेत्र के जरैला, सेन पुर, पूरे जमादार, पूरे सहमत, सड्कहा, अजीज गंज समेत आसपास के गांव में बिजली आपूर्ति बेपटरी हो गई है। तो वहीं चंदापुर फीडर पर पहरेमऊ, असर्फाबाद, खैरहना, बघैल, बहादुर नगर आदि ग्राम पंचायत के उपभोक्ता को लो वोल्टेज की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लो-वोल्टेज की मार से परेशान क्षेत्र के किसान शिवबक्श सिंह, राजाराम, अब्बास अली, राजबहादुर, सुरेन्द्र सिंह, अशरफ अली आदि का कहना है कि लो-वोल्टेज व बार ट्रिपिंग होने से धान की फसल सूख रही है अगर यही हालात रहे तो हम किसान भुखमरी के कगार पर होंगे। मनमानी बिजली कटौती से अन्नदाता धान की सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। जिन खेतो कि रोपाई हो गई उनकी सिचाई नही हो पा रही है औऱ छेत्र मे चालिस प्रतिशत रोपाई बाकी है जिसे देख अन्नदाता खून के आंसू रोने को विवश हैं। मौसम की दगाबाजी व किसानों की मेहनत की कमाई खेतों में नष्ट हो रही है, जिसे देख किसानों का सुख-चैन हराम हो गया है। किसानों की माने तो परेशानी झेल रहे कृषक कई बार विभागीय अधिकारियों को पत्र देकर अघोषित बिजली कटौती व लो वोल्टेज की समस्या से निजात दिलाने की मांग कर चुके हैं लेकिन विभागीय स्तर से संज्ञान नहीं लिया जा रहा है जिससे ग्रामीणों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। अगर जल्द ही समस्या का निराकरण नहीं किया गया तो आक्रोशित लोगों ने जन आंदोलन करने की बात कही है।

शिवम अवस्थी की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.