तिलोई-सरकार की गोल्डन कार्ड योजना धरातल पर नहीं

0
345

अमेठी– सरकार की महत्वाकांक्षी योजना गोल्डन कार्ड शायद आज भी धरातल पर उतर कर गरीबो को नही मिल पा रही है । बेचारे गरीब और असहाय लोग प्राइवेट अस्पतालों में जाकर खुद बिकने को मजबूर है ।

पूरा मामला जनपद अमेठी के तहसील तिलोई ग्राम बरकोट मजरे लालगंज तिलोई का है जहां के निवासी बाबूलाल पासी पुत्र भगवा पासी की तबियत अचानक खराब हो गई जिसके चलते उनको जिला अस्पताल रायबरेली में ग्रामीणो ने भर्ती कराया उसके बाद आराम ना मिलता देख दो दिन बाद डॉक्टरों ने लखनऊ रिफर कर दिया । जहां डॉक्टरों ने उससे इलाज करने के नाम पर 50 हजार रुपये की डिमांड की , गरीब पीड़ित ने कहा मेरे पास इतना पैसा नही है और अपना प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना के तहत बने कार्ड को डॉक्टर को देते हुए बोला कि आप इससे मेरा इलाज कीजिये लेकिन डाक्टरों ने कार्ड को वापस करते हुए बोले कि यहां इससे कुछ नही होगा आपके पास अगर पैसा है तब इलाज करेंगे वरना घर जाइये । गरीब और असहाय पीड़ित के घर पर कोई और अन्य न होने के चलते ग्रामीण के पास इतने पैसे ना होने की स्थिति में वह अपने मरीज को निजी एम्बुलेंस करके वापस घर ले आये । जहा पर पैसे के आभाव के चलते जिन्दगी और मौत के बीच घर पर पडा पीडित अपनी आखिरी सांसे गिन रहा है सबका साथ सबका विकास देखना है तो पीडित बाबूलाल पासी की हालत पर एक नजर डालिऐ!

सबसे बड़ी बात तो यह है कि पीड़ित परिवार राज्यमंत्री सुरेश पासी के गृह निवास के बगल का रहने वाला है फिर भी मौजूदा सरकार में राज्यमंत्री होते हुए भी उनकी जनता परेसान और मरने के कगार पर है । आखिर सरकार की योजनाएं धरातल पर आकर गरीबो को कब मिलेगी यह एक बहुत बड़ा प्रश्न है जिसका जवाब सरकार को अवश्य देना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.