मोहनलालगंज-चारो तरफ चीख पुकार के साथ अपनों की तलाश,3 बच्चों के शव बरामद, तलाश जारी….

0
394

मोहनलालगंज कोतवाली क्षेत्र थाना नगराम के पटवा खेड़ा गांव के बाहर खचाखच सवारियों से भरी पिकप डाला चालक अनियंत्रित होकर इंदिरा नहर में गिर गया वाहन में 29 लोग सवार थे ये सभी नगराम से शादी समारोह से लौट रहे थे। हादसे में छह बच्चे अब भी लापता हैं। पिकप सवार सभी लोग बाराबंकी के रहने वाले थे। सूचना पर पुलिस के अलावा एनडीआरएफ, एसडीआरएफ की टीमें अत्याधुनिक उपकरणों से रेस्क्यू में लगी हैं।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञान लिया है और एसएसपी और एसडीआरएफ को निर्देश दिया है कि वे डूबे हुए व्यक्तियों की खोज और बचाव के लिए हर संभव प्रयास करें। सुबह चार बजे से एसडीआरएफ और स्थानीय गोताखोरों की मदद से खोजबीन ऑपरेशन चल रहा है, लेकिन कुछ बच्चों का पता नहीं लग पाया। घटना स्थाल पर डीएम कौशल राज शर्मा और एसएसपी कलानिधि नैथानी भी पहुंच गए उनकी निगरानी में सर्च ऑपरेशन चल रहा है। बच्चों के नहीं मिलने से घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है।एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक बाराबंकी के लोनी कटरा सराय पांडेय निवासी फतेह बहादुर गुरुवार तड़के परिवारीजन और रिश्तेदारों के साथ पिकप डाला से साढू सूरज पाल निवासी पटवाखेड़ा नगराम के यहां आयोजित समारोह में शामिल होकर लौट रहे थे कि छेदा खेड़ा के निकट चालक नियंत्रण खो बैठा और सवारियों से भरा पिकअप वाहन इंद्रा नहर में गिर गया ,घटना पटवा खेड़ा नगराम थाना क्षेत्र की है, यहां पांडेय सराए बराबंकी से फते बहादुर अपने साढू के बेटे की शादी समारोह में शामिल होने आए थे। यहां से बुधवार रात दो बजे करीब लगभग 29 लोग पिकअप में सवार होकर वापस घर जा रहे थे। बताया जा रहा है कि नहर के पास एक पतली पगडंडी पर चलते समय पिकअप चालक फंस गया। जिस पर ड्राईवर ने बायीं ओर मोड़ना चाहा, ल‍ेकिन आगे चालक के पास ज्यादा सवारी बैठी होने की वजह से पिकअप जब तक मोड़ता की इंदिरा नहर में जा गिरा। हादसा से मौके पर चीख पुकार मच गई। लोगों ने किसी तरह से एक दूसरे को खींचकर नहर से बाहर निकाला हादसे की सूचना मिलते ही प्रशासन हरकत में आया, देर रात क्रेन की मदद से पिकअप को बाहर निकाला गया जिसमें नौ सवार लापता होने की पुष्टि के बाद प्रशासन के हाथ पाव फूल गए जिसके बाद सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ। नहर से कई लोग तैरकर तेज बहाव के साथ बाहर आ गए। वहीं कुछ लोगों ने बच्चों को भी बाहर निकाला, लेकिन कई परिजनों को उनके बच्चे नहीं मिल पाए। रात भर घरवाले बच्चों की तलाश में बदहवास रहे। बच्चों के डूब जाने के डर से परिजनों में रोना-पीटना मच गया। सुबह चार बजे करीब एनडीआरएफ की टीम ने सर्च अभियान शुरू किया। स्थानीय गोताखोरों की भी मदद ली गई। सात लापता हुए बच्चों में सचिन (6), सजन (4), , मानसी (4), मानसी (6), अभी भी लापता हैं। जिसमें से सौरभ 6, शनी 9 लोनी कटरा सराय पांडेय तथा अमन हरदोइया के शव देखते ही परिजनो में मौके पर चीख पुकार मच गई , सवारों के अनुसार ड्रार्इवर नशे में था हादसे के बाद ग्रामीणों ने उसे जमकर पीटा जिसके बाद से ड्राईवर मौके से फरार हो गया नहर में बच्चों को खोजने के लिए एसडीआरएफ के 15 जवान और 4 गोताखोरों को लगाया गया है। एसएसपी कलानिधि नैथानी भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों से पूछताछ की जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की देखरेख में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। वहीं आइजी रेंज लखनऊ एस के भगत ने कहा कि अब तक 22 लोगों को बचाया जा चुका है, चार बच्चे अभी भी लापता है। टीम द्वारा बचाव अभियान जारी था ।


शिव बालक गौतम की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.