शिवगढ़- लटक रहे बिजली के तारों की चपेट में आये पाँच युवक घायल

0
478

शिवगढ़,रायबरेली। शिवगढ़ थाना क्षेत्र के बैंती गांव में विद्युत विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है जहां भगवान की पालकी के साथ चल रहा डीजे कई वर्षों से लटक रहे 11000 हाई वोल्टेज तारों की करंट की रेंज में आ गया। डीजे गाड़ी में हाई वोल्टेज करंट उतरने के चलते डीजे की धुन पर थिरकते और भगवान के जयकारे लगाते हुए चल रहे 3 युवक और 2 किशोर विद्युत करंट की चपेट में आकर बुरी तरह से झुलस कर बेहोश हो गए।जिन्हें आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवगढ़ ले जाया गया।

जहां पर मौजूद सीएचसी अधीक्षक डॉक्टर एलपी सोनकर फिजियोथैरेपिस्ट डॉ.अनुराग, डॉक्टर अनिल कुमार,अनुपम शुक्ला सहित स्टाफ तत्परता दिखाते हुए सभी के इलाज में जुड़ गया। विद्युत हादसे की खबर सुनकर मौके पर एमएलसी प्रतिनिधि विनय वर्मा,बैंती प्रधान जानकीशरण जायसवाल सहित बैंती गांव के सैकड़ों लोग सीएचसी शिवगढ़ पहुंच गए। विदित हो कि बैंती ग्रामसभा के हनुमानगढ़ी में स्थित अति प्राचीन कालीन तपोस्थली सर्रा बाबा की कुटी पर गत वर्षो की भांति जेष्ठ मास के आखरी बड़े मंगल को विशाल भंडारे का आयोजन था। परंपरा के मुताबिक भंडारे के शुभारंभ से पूर्व प्रातः 7 बजे तपोस्थली से भगवान की पालकी निकालकर गांव के मंदिरों में घुमाई जा रही थी। भगवान की पालकी के साथ डीजे की धुन पर थिरकते एवं बजरंगबली के जयकारे लगाते हुए जैसे ही शोभा यात्रा कबीरादान गांव में रामनरेश यादव के घर के पास पहुंची डीजे लटक रहे 11000 हाई वोल्टेज विद्युत तारों की रेंज में आ गया। और डीजे गाड़ी में करंट उतर आया जिसके चलते डीजे के साथ जयकारे लगाते हुए चल रहे युवक उमेश कुमार पुत्र रामधन (23), आकाश पुत्र रामविलास (18), धर्मेंद्र कुमार पुत्र अयोध्या प्रसाद (19) व किशोर प्रांशू (12) पुत्र राजू , प्रांजुल (8) वर्ष 11000 हाई वोल्टेज विद्युत करंट की चपेट में आकर झुलस गए। घटना की जानकारी होते ही गांव में कोहराम मच गया। जो जिस हाल में था वह उसी हाल में सीएचसी शिवगढ़ की ओर दौड़ पड़ा।

कई बार शिकायत के बाद नहीं जागा विद्युत विभाग

विदित हो कि 3 वर्ष पूर्व भी इसी जगह अधेड़ महिला सुखरानी पत्नी सुखराम हाई वोल्टेज विद्युत करंट की चपेट में आकर बुरी तरह से झुलस गई थी। ग्रामीणों ने विद्युत विभाग से तारों को ऊंचा करने की मांग की थी किंतु विद्युत विभाग ने कोई एक्शन नहीं लिया था। यही नहीं गांव के अन्य लोग भी दर्जनों बार विद्युत विभाग के आला अधिकारियों से तारों को ऊंचा करने के लिए शिकायत कर चुके हैं किंतु विद्युत विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते नतीजा शून्य रहा। अगर तार ऊंचे होते तो आज इतना बड़ा हादसा ना होता।

ब्यूरो रिपोर्ट मनीष अवस्थी(बीनू)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.