सुल्तानपुर-मतदान कार्मिकों (पोलिंग पार्टी) का द्वितीय प्रशिक्षण 28 अप्रैल से

0
273

सुल्तानपुर ब्यूरो सुनील राठौर की रिपोर्ट

भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2019 को शांतिपूर्ण, निष्पक्ष एवं सफलता पूर्वक सम्पादित कराये जाने हेतु मतदान कार्मिकों (पोलिंग पार्टी) को कुशल प्रशिक्षण देने के लिये द्वितीय प्रशिक्षण केन्द्रीय विद्यालय अमहट के 25 कक्षों में 28 अप्रैल से 03 मई तक दो पालियों में प्रातः 09 बजे अपरान्ह 12 बजे तक तथा अपरान्ह 02 बजे सायं 05 बजे तक आयोजित किया जायेगा।
यह जानकारी मुख्य विकास अधिकारी व नोडल-प्रभारी अधिकारी (म.का.) मधुसूदन हुल्गी ने देते हुए बताया कि उक्त तिथियों में प्रशिक्षित मास्टर ट्रेनर्स, सामान्य व ईवीएम तथा मास्टर ट्रेनर्स अतिरिक्त द्वारा मतदान कार्मिकों (पोलिंग पार्टी) को कुशल प्रशिक्षण दिये जायेंगे। उन्होंने बताया कि सभी मास्टर ट्रेनर्स को निर्देशित किया गया है कि प्रशिक्षण प्रारम्भ होने से 30 मिनट पूर्व प्रशिक्षण स्थल पर स्थापित कन्ट्रोल रूम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के उपरान्त अपने नाम सम्मुख अंकित कक्ष में उपस्थित होकर मतदान कार्मिकों को प्रशिक्षण देना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण हेतु कुल 80 मास्टर ट्रेनर्स को लगाया गया है। मुख्य विकास अधिकारी व नोडल-प्रभारी अधिकारी (म.का.) ने बताया कि अधिशाषी अभियन्ता, शारदा सहायक खण्ड-49 व नोडल- प्रभारी अधिकारी, इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन व वीवी पैट, जिला पंचायत राज अधिकारी व नोडल- प्रभारी अधिकारी, निर्वाचन नामावली व मतदाता पर्ची एवं सर्विस डाक मतपत्र, उप निदेशक कृषि व नोडल अधिकारी प्रपत्र एवं लेखन व निर्वाचन सामग्री, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी व प्रभारी तथा नोडल अधिकारी, साधारण मतपत्र, जिला अग्नि शमन अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका परिषद, प्रधानाचार्य, केन्द्रीय विद्यालय अमहट, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कृषि अधिकारी, जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी, जिला प्रशिक्षण अधिकारी व जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देशित किया गया है कि उक्त तिथियों में आयोजित प्रशिक्षण हेतु पूर्व में दिये गये निर्देशों के अनुरूप अपनी व्यवस्था सुनिश्चित करें, ताकि प्रशिक्षण को व्यवस्थित ढंग से सम्पन्न कराया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.