मोहनलालगंज-महिला दिवस पर खंड शिक्षा अधिकारी ने महिलाओ को सम्मानित किया

0
409

मोहनलालगंज विकास खंड क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर मोहनलालगंज गौरा में स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय में खंड शिक्षा अधिकारी मोहनलालगंज धर्मेंद्र प्रसाद ने पहुंचकर कक्षा 1 से 8 तक में पढ़ रही छात्राओं की मां को महिला दिवस के मौके पर आठों माताओं को और विद्यालय में कार्यरत रसोइयों को उपहार देकर सम्मानित किया और सभी छात्राओं की आई माताओं को बेस्ट महिला चुनकर शिक्षक अर्मा चंद ने बैच लगाकर सम्मानित किया वहीं मुकुंद मिश्रा ने महिला दिवस किस रूप में मनाया जाता है चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि अमेरिका में सोशलिस्ट पार्टी के आह्वान पर, यह दिवस सबसे पहले 28 फ़रवरी 1909 को मनाया गया था । इसके बाद यह फरवरी के आखिरी इतवार के दिन मनाया जाने लगा। 1910 में सोशलिस्ट इंटरनेशनल के कोपेनहेगन सम्मेलन में इसे अन्तर्राष्ट्रीय दर्जा दिया गया। उस समय इसका प्रमुख ध्येय महिलाओं को वोट देने का अधिकार दिलवाना था, क्योंकि उस समय अधिकतर देशों में महिलाओ को वोट देने का अधिकार नहीं था। 1917 में रूस की महिलाओं ने, महिला दिवस पर रोटी और कपड़े के लिये हड़ताल पर जाने का फैसला किया था , यह हड़ताल भी ऐतिहासिक थी। ज़ार ने सत्ता छोड़ी, अन्तरिम सरकार ने महिलाओं को वोट देने का अधिकार दिया। उस समय रूस में जुलियन कैलेंडर चलता था और बाकी दुनिया में ग्रेगेरियन कैलेंडर। इन दोनों की तारीखों में कुछ अन्तर है। जुलियन कैलेंडर के मुताबिक 1917 की फरवरी का आखिरी इतवार 23 फ़रवरी को था जब की ग्रेगेरियन कैलैंडर के अनुसार उस दिन 8 मार्च था । इस समय पूरी दुनिया में (यहां तक रूस में भी) ग्रेगेरियन कैलैंडर चलता है। इसी लिये 8 मार्च को महिला दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। अतिथि के रूप में पहुंचे मोहनलालगंज खंड शिक्षा अधिकारी धर्मेंद्र प्रसाद का सम्मान हेमलता तिवारी ने किया ,इस कार्यक्रम के दौरान नीलम श्रीवास्तव ,पुष्प लता, ,अरमा चंद्र ,कुमुद मिश्रा ,सर्वेश ,रश्मि, गीता ,नीता ,आरती और हुमा रजनी सभी शिक्षक गण व शिक्षिकाएं मौजूद थीं ।

शिव बालक गौतम की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.